दिल्ली: कोरोना से भयावह हालात! घर में पड़ी लाशें भी समय पर नहीं उठाई जा रहीं, राहुल बोले- हम करेंगे मदद - www.fxnmedia.com

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

मंगलवार, 9 जून 2020

दिल्ली: कोरोना से भयावह हालात! घर में पड़ी लाशें भी समय पर नहीं उठाई जा रहीं, राहुल बोले- हम करेंगे मदद


दिल्ली में कोरोना से बिगड़े हालात पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि अजय जैसे मेरी लाखों बहनों और भाइयों को मैं यह कहना चाहता हूं कि हम आपके दर्द को साझ सकते हैं। हम आपकी रक्षा के लिए सब कुछ करेंगे। हम मिलकर इस महमारी को हराएंगे। 

देश भर में लगातार कोरोना वायरस के मामले बेहद तेजी से बढ़ रहे हैं। इस बीच देश की राजधानी दिल्ली में दिन प्रतिदिन हालात और भयावह होते जा रहे हैं। केजरीवाल सरकार भले ही सबकुछ ठीक होने के दावे कर रही हो, लेकिन कहीकत यह है कि पिछले कई दिनों से लोग यह शिकायत कर रहे हैं कि कोरोन पॉजिटिव होने के बावजूद उन्हें इलाज नहीं मिल रहा है, उन्हें अस्पताल भर्ती नहीं ले रहे हैं। सोशल मीडिया पर इस तरह की शिकायतों की बाढ़ आ गई है। ऐसे लोगों की आवाज उठाने के लिए कांग्रेस पार्टी सामने आई है। कांग्रेस पार्टी आज स्पीकअप दिल्ली के तहत उन तमाम पीड़ितों के वीडियो शयर कर रही है, जिन्हें इलाज नहीं मिल रहा है।
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने स्पीकअप दिल्ली अभियान के तहत ऐसे ही एक कोरोना पीड़ित अजय झा का वीडियो शेयर किया जो पेशे से पत्रकार हैं। राहुल गांधी ने वीडियो ट्वीट कर कहा, “अजय जैसे मेरी लाखों बहनों और भाइयों को मैं यह कहना चाहता हूं कि हम आपके दर्द को साझ सकते हैं। हम आपकी रक्षा के लिए सब कुछ करेंगे। हम मिलकर इस महमारी को हराएंगे।” 
वीडियो में कोरोना पीड़ित पत्रकार अजय झा कह रहे हैं, “मेरे घर में सभी लोग पॉजिटिव हैं। मेरी बीवी, मेरी दो छोटी बेटियां। पिछले 10 दिनों में मेरे घर में दो लोगों की मौत हो चुकी है। मेरी पत्नी के पिता की पहले मौत हुई और अब दो दिन पहले मेरी सास की इसी घर में मौत हो गई। बहुत देर तक बॉडी यहां पर रखी रही, कोई लेने नहीं आया। एंबुलेंस आया वह ले नहीं गया। सब एक-दूसरे के ऊपर जिम्मेदारी डाल रहे हैं। केजरीवाल और बाकी सरकार दावा कर रही है कि सबकुछ ठीक है, लेकिन सच्चाई यह है कि कुछ भी ठीक नहीं है, लोग बस भगवान भरोसे हैं। मैं और मेरा परिवार बेहद तकलीफ में हैं। इस संकट से बाहर निकालने में लोग मेरी मदद करें। मेरे दो छोटे बच्चे हैं। बहुत हिम्मत कर रहा हूं, लेकिन पता नहीं क्या होगा। मदद चाहिए, इलाज चाहिए। यही उम्मीद है कि लोग सुनेंगे और आगे आएंगे, मदद करेंगे।”
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने स्पीकअप दिल्ली के तहत राजधानी की मौजूदा हालात पर चिंता जताई है। उहोंने कहा, “दिल्ली भारत की राजधानी है। देश की राजधानी में जो कोरोना वयारस की परिस्थिति है वह बहुत ही विचित्र और संवेदनशील बनती जा रही है। दिल्ली की सरकार ने यह ऐलान किया कि अगर आप मूल रूप से दिल्लीवासी नहीं हैं तो दिल्ली के अस्पतालों में आपका इलाज नहीं किया जाएगा। क्या दिल्ली की सरकार यह बताएगी कि दिल्ली के मूल निवासी की परिभाषा किया है? अगर कोई व्यक्ति बाहर से आकर दिल्ली में काम करता है, लेकिन उसके पास दिल्की के दस्तावेज नहीं हैं तो क्या मानवता यह कहती है कि अगर वह बीमार हो जाए तो उसे अस्पताल में एक बिस्तर भी नहीं दिया जाए। उसके अलावा सुनियोजित तरीके से जो टिस्टिंग है उसको कम रखने की कोशिश की जा रही है। जो नीजि लैब वाले हैं उन्हें धमकाया जा रहा है कि आप व्यापक तरीके से टेस्टिंग मत कीजिए, जिससे की संख्या कम रहें। यह परिस्थिति इस देश के लिए ठीक नहीं है। अगर देश की राजधानी का यह हाल है तो आप यह सोच सकते हैं कि बाकी जगहों का क्या हाल होगा।”

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages