मुंबई में डॉक्टरों की बढ़ी टेंशन, कोरोना संक्रमित युवाओं में मिल रहें कावासाकी बीमारी के लक्षण - www.fxnmedia.com

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, June 27, 2020

मुंबई में डॉक्टरों की बढ़ी टेंशन, कोरोना संक्रमित युवाओं में मिल रहें कावासाकी बीमारी के लक्षण



मुंबई. अभी तक लोग कोरोना से पहले ही परेशान थे लेकिन अब कोरोना से संक्रमित युवाओं में कावासाकी बीमारी के लक्षण भी मिल रहे हैं.
इससे जड़ी पहली रिपोर्ट पश्चिमी मुंबई से आई है, लेकिन आश्चर्यजनक रूप से भारत के कोरोना संक्रमितों में कावासाकी बीमारी के लक्षण पहली बार दिखे हैं. कोविड-19 के लक्षणों को लेकर दुनियाभर के साइंटिस्ट जूझ रहे हैं. कई देशों में इस महामारी से संक्रमित लोगों को में अलग-अलग तरह के लक्षण उभरते रहे हैं.

यही वजह है कि इस महामारी को कई बार रहस्यमयी भी कहा गया है. मुंबई के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती 14 वर्षीय किशोरी में तेज बुखार और शरीर पर चकत्ते जैसे निशान उभर आए. डॉक्टरों के मुताबिक ये लक्षण कावासाकी बीमारी से मिलते-जुलते हैं.
ये लक्षण उभरने के बाद किशोरी की तबीयत बिगड़ती चली गई. बाद में उसे आईसीयू वार्ड में शिफ्ट करना पड़ा. डॉक्टर उस किशोरी को इस वक्त कई दवाओं के मिश्रण के साथ टोसिलजैमैब दवा दे रहे हैं. किशोरी को कोविड-19 का संक्रमण उसके पिता से हुआ था. गौरतलब है कि कोरोना संक्रमितों में कावासाकी के लक्षण मिलते रहे हैं.


इससे पहले अप्रैल महीने में अमेरिका, स्पेन, इटली और चीन में कम उम्र के संक्रमितों में ऐसे लक्षण उभरक आए थे. एक अमेरिकी स्टडी के मुताबिक अमेरिका में तकरीबन 58 कोरोना संक्रमितों में संक्रमितों में कावासाकी के लक्षण उभरे थे.
कावासाकी बीमारी सामान्य तौर पर 5 साल से कम उम्र के बच्चों को ही ज्यादा होती है. महाराष्ट्र में आए अब तक कुल कोरोना मामलों में 11 से 20 उम्र के 9371 मरीज आए हैं जबकि 10 साल से कम उम्र के 5103 केस सामने आए हैं.
बच्चों में होने वाली संक्रामक बीमारियों की एक्सपर्ट तनु सिंघल के मुताबिक-'कावासाकी जैसे लक्षण वाले युवाओं की तबीयत ज्यादा तेजी के साथ खराब हो सकती है. उस किशोरी को हमारे पास पहले भर्ती कराया जाना चाहिए था जिससे हम उसकी हालत पर ज्यादा काम कर पाते.
हालांकि ये कावासाकी बीमारी नहीं है, बल्कि उसके जैसे लक्षण हैं.' गौरतलब है कि ब्रिटेन के डॉक्टर भी अप्रैल-मई महीने में इसी तरह के मामले आने की वजह से चिंतित हो गए थे. देश की नेशनल हेल्थ सर्विस ने अपने अलर्ट में कहा था-इस बीमारी में बुखार भी आता है.
इसके अलावा सांस लेने में तकलीफ होती है. लगभग ऐसे ही लक्षण कोरोना के हैं. वहीं, बच्चों में स्किन पर चकत्ते दिखना, हाथों में सूजन होना, आंखों में लालिमा दिखना और गले में सूजन होना जैसे लक्षण दिख रहे हैं.

No comments:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages