आर्मी चीफ़ जनरल नरवणे बोले, बॉर्डर पर हालात नियंत्रण में भारत-चीन सीमा विवाद , - www.fxnmedia.com

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

शनिवार, 13 जून 2020

आर्मी चीफ़ जनरल नरवणे बोले, बॉर्डर पर हालात नियंत्रण में भारत-चीन सीमा विवाद ,






सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे
भारत के सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने शनिवार को ये भरोसा दिलाया कि चीन से लगने वाली भारतीय सीमा पर हालात पूरी तरह से नियंत्रण में है.
देहरादून में सेना प्रमुख ने कहा, "चीन से हमारी कमांडर स्तर की बातचीत चल रही है."
उन्होंने कहा, "हमें उम्मीद है कि निरंतर बातचीत से हम अपने मतभेदों को दरकिनार कर पाएंगे... सबकुछ नियंत्रण में है."

नेपाल के साथ जारी विवाद पर जनरल एमएम नरवणे ने कहा, "नेपाल के साथ हमारा बेहद मजबूत रिश्ता है. हमारे भौगोलिक, सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और धार्मिक जुड़ाव रहा है. नेपाल और भारत के लोगों का भी एक दूसरे से गहरा जुड़ाव रहा है. उनके साथ हमारे रिश्ते हमेशा मजबूत रहे हैं और भविष्य में भी हमेशा मजबूत रहेंगे."

शुक्रवार को भारत और चीन के मेजर-जनरल स्तर के अधिकारियों के बीच पूर्वी लद्दाख में जारी सीमा विवाद पर बातचीत हुई है.
पेट्रोल और डीज़ल की कीमतें फिर बढ़ीं
शनिवार को पेट्रोल 59 पैसा प्रति लीटर और डीज़ल 58 पैसा प्रति लीटर के हिसाब से और महंगा हो गया. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ पिछले सात दिनों में पेट्रोल की कीमत 3.9 रुपया और डीज़ल की कीमत चार रुपया प्रति लीटर की दर से बढ़ाई गई है. पेट्रोल-डीज़ल की क़ीमतों में लगातार बढ़ोत्तरी जारी है.
पिछले छह दिनों में हर दिन पेट्रोल-डीज़ल की क़ीमतों में इज़ाफ़ा किया गया है. 11 जून को पेट्रोल-डीज़ल की क़ीमतों में 60 पैसे की वृद्धि हुई है. तेल की क़ीमतों में यह वृद्धि उस वक़्त हो रही है जब अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की क़ीमत अपने न्यूनतम स्तर पर पहुँचने के बाद अब धीरे-धीरे सुधर रही है.

हाल में अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की क़ीमत क़रीब माइनस 37.63 डॉलर तक चली गई थी लेकिन अब यह क़रीब प्रति बैरल 40 डॉलर से अधिक हो गई है. समाचार एजेंसी पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार सामान्य दिनों में भारत में रोज़ाना 46-50 लाख प्रति बैरल तेल की खपत होती है.


लेकिन भारतीय तेल बाज़ार का अनुमान है कि कोविड-19 महामारी की वजह से भारत में तेल की खपत लगभग 30 प्रतिशत कम हो गई है. सरकारी आँकड़ों के मुताबिक़ भारत लगभग 85 प्रतिशत कच्चा तेल आयात करता है.

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages