कई राज्यों में शराब की दुकानें खुलवाने के लिए सामने आया ये संगठन - www.fxnmedia.com

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Thursday, April 30, 2020

कई राज्यों में शराब की दुकानें खुलवाने के लिए सामने आया ये संगठन




 लॉकडाउन (Lockdown) के बाद से ही देश में सभी शराब की दुकानें बंद हैं. पिछले कई दिनों से इन दुकानों को खोलने की सुगबुगाहट होती रही है.
 केरल, महाराष्ट्र, पंजाब, उत्तर प्रदेश और दिल्ली में इन दुकानों को खोलने पर चर्चाएं हुई. इसके बावजूद इन्हें खुलवाने में कामयाबी नहीं मिली. लेकिन अब एक संगठन सामने आया है जिसने देश के 10 राज्यों में शराब की दुकानों को खोलने की मांग की है
. संगठन ने कोरोना वायरस (Coronavirus) और लॉकडाउन (Lockdown) के बीच एक नायाब आइडिया भी सरकार को दिया है.  






CIABC ने दिया सरकार  को अपना सुझाव 
शराब निर्माता कंपनियों के संगठन दि कंफेडरेशन ऑफ इंडियन अल्कोहल बेवरेज कंपनीज (CIABC) आगे आया है. संगठन ने दस राज्यों में शराब की दुकान खोलने की मांग की है. इनका सुझाव है कि राज्यों में कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां कोरोना वायरस का कोई मामला सामने नहीं आया है. राज्यों से अनुरोध किया गया है कि इन स्थानों की निशानदेही कर यहां शराब की दुकानें दोबारा खोलने की इजाजत दी जाए. 






दिल्ली, हरियाणा  उत्तर प्रदेश समेत 10 राज्यों से की मांग
संगठन के एक अधिकारी ने बताया कि हमने राजधानी दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, महाराष्ट्र, राजस्थान, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और कर्णाटक के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखा है. हमने कहा है कि आपके राज्यों के कई जिलों में कोरोना वायरस का एक भी मामला सामने नहीं आया है. ऐसे में इन जिलों में सुरक्षा के सभी उपायों के साथ शराब की दुकान खोलने की इजाजत मिलनी चाहिए. अधिकारी ने बताया कि फिलहाल राज्यों की ओर से कोई जवाब नहीं आया है. 







सरकार का करोड़ों का नुकसान
मामले से जुड़े जानकारों का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से शराब निर्माता कंपनियों को करोड़ों का नुकसान हो रहा है. देश में सभी शराब की दुकानें बंद हैं. ऐसे में कंपनियों के उत्पाद नहीं बिक रहे हैं. इसी वजह से राज्यों को भी राजस्व का भारी नुकसान हो रहा है. संगठन को उम्मीद है कि जल्द सरकार इस मामले में कदम उठाएगी और शराब की दुकानों को दोबारा खोलने की इजाजत देगी.


ये भी देखें-   

No comments:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages