कोरोना से लड़ते हुए लुधियाना के एक जहवाज ACP अनिल कोहली ने तोड़ा दम, - www.fxnmedia.com

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, April 18, 2020

कोरोना से लड़ते हुए लुधियाना के एक जहवाज ACP अनिल कोहली ने तोड़ा दम,

अनिल  कोहली की उम्र 52 वर्ष थी और 13 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, जिसके बाद उन्हें अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया था. हालांकि बाद में उन्हें सतगुरु प्रताप सिंह अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां उन्होंने अंतिम सांस ली.



एसीपी का प्लाज्मा ट्रीटमेंट होना था, लुधियाना के हॉस्पिटल में ली अंतिम सांस
13 अप्रैल को हुई थी कोरोना की पुष्टि, संक्रमण की वजह का नहीं पता, पंजाब में 16वीं मौत भगवान उनकी आत्मा को मुक्ति दे।   




लुधियाना में एसीपी के तौर पर नियुक्त थे अनिल कोहली





प्राप्त जानकारी के अनुसार एसीपी को 8 अप्रैल को तबीतय बिगड़ने पर हॉस्पिटल लाया गया था। 13 अप्रैल को उनका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव पाया गया। डॉक्टर राजेश बग्गा ने एसीपी के निधन की पुष्टि की। हालांकि एसीपी कहां से कोरोना की चपेट मेंआए, इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है।

क्या है यह प्लाज्मा ट्रीटमेंट, समझिए
हमारा खून चार चीजों से बना होता है। रेड ब्लड सेल, वाइट ब्लड सेल, प्लेट्लेट्स और प्लाज्मा। इसमें प्लाज्मा खून का तरल हिस्सा है। इसकी मदद से ही जरूरत पड़ने पर एंटीबॉडी बनती हैं। कोरोना अटैक के बाद शरीर वायरस से लड़ना शुरू करता है। यह लड़ाई एंटीबॉडी लड़ती है जो प्लाज्मा की मदद से ही बनती हैं। अगर शरीर पर्याप्त एंटी बॉडी बना लेता है तो कोरोना हार जाएगा। मरीज के ठीक होने के बाद भी एंटीबॉडी प्लाज्मा के साथ शरीर में रहती हैं, जिन्हें डोनेट किया जा सकता है।

जिस मरीज को एक बार कोरोना का संक्रमण हो जाता है, वह जब ठीक होता है तो उसके शरीर में एंटीबॉडी डिवेलप होती है। यह एंटीबॉडी उसको ठीक होने में मदद करते हैं। ऐसा व्यक्ति रक्तदान करता है। उसके खून में से प्लाज्मा निकाला जाता है और प्लाज्मा में मौजूद एंटीबॉडी जब किसी दूसरे मरीज में डाला जाता है तो बीमार मरीज में यह एंटीबॉडी पहुंच जाता है, जो उसे ठीक होने में मदद करता है। एक शख्स से निकाले गए प्लाजमा की मदद से दो लोगों का इलाज संभव बताया जाता है। कोरोना नेगेटिव आने के दो हफ्ते बाद वह प्लाज्मा डोनेट कर सकता है।


No comments:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages