आर्थिक मोर्चे पर भारत के कड़े रुख से घबराया चीन, ड्रैगन को अब सता रहा है ये डर - www.fxnmedia.com

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, July 1, 2020

आर्थिक मोर्चे पर भारत के कड़े रुख से घबराया चीन, ड्रैगन को अब सता रहा है ये डर




नई दिल्ली: लद्दाख के गलवान घाटी में हिसक झड़प में 20 से अधिक भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद देशभर में चीन के प्रति भारी गुस्सा है। लोगों सरकार से चीन को मुंहतोड़ जवाब देने की मांग कर रहे हैं। लोग चीन निर्मित सामान से तौबा कर रहे हैं। स्वदेशी उत्पादों का उपयोग पर जोर दिया जा रहा है। स्वदेशी उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए सरकार की तरफ से जरूरी कदम भी उठाए जा रहे हैं। चीन को सरकार मुंहतोड़ जवाब देने के लिए देश का हर नागरिक सरकार के साथ है।



इन सबके बीच सीमा पर आंख दिखाते चीन को भारत ने घेरना शुरू कर दिया है। न सिर्फ बॉर्डर पर, बल्कि अन्‍य क्षेत्रों में भी ड्रैगन को चोट पहुंचाने की कोशिशें शुरू भी हो गई हैं। चीन की तरफ से ऐसी-ऐसी प्रतिक्रियाएं आ रही है उससे लगता है कि भारत का तीर निशाने पर लगा है। पिछले कुछ दिनों से भारत लगातार चीन को झटके पे झटके दे रहा है।



आर्थिक मोर्चे पर भारत के कड़े रुख से चीन बुरी तरह से घबरा गया है। चीन के सरकारी अखबार में खबर छपी है कि ऐप बैन के बाद भारत केमिकल, इलेक्ट्रोनिक्स, हेवी मशीनरी और फार्मास्यूटिकल्स के क्षेत्र में चीन को बाहर कर सकता है। ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक भारत के रुख की वजह से दोनो देश के बीच व्यापार को लेकर आर्थिक दूरियां बढ़ सकती हैं। जिसका शुरुआती नुकसान चीन को होगा और बाद में भारत को भी होगा। अखबार में लिखा है कि चीन भारत से लड़ाई नहीं चाहता है। अगर एशिया में शांति रही तो एशिया विश्व की आर्थिक महाशक्ति बन जायेगा।



आपको बता दें कि 29 जून को भारत ने TikTok, UC Browser, WeChat, Weibo समेत 59 चीनी ऐप्‍स पर बैन लगा दिया था। उन्‍हें देश की संप्रभुता और सुरक्षा के लिए खतरा बताया गया। यह बैन भारत-चीन के बीच सीमा पर तनाव के बीच लगा है। लिस्‍ट में Bigo Live, Helo, Likee, CamScanner, Vigo Video, Mi Video Call - Xiaomi, Clash of Kings, Club Factory और Shein जैसे नाम हैं।
चीनी सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक भारत में 59 चीनी ऐप बैन होने से Tik Tok की पैरंट कंपनी ByteDance को 6 अरब डॉलर का नुकसान हो सकता है। सिर्फ एक ऐप के बैन होने से अगर इतने नुकसान का अंदाजा लगाया जा रहा है तो समझा जा सकता है कि 59 ऐप के बैन होने से चीन को कितना बड़ा आर्थिक झटका लगेगा।

No comments:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages