चीन ने ताइवान के चारों तरफ तैनान किए लड़ाकू विमान, यूएस से युद्ध की आशंका बढ़ी - www.fxnmedia.com

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, June 24, 2020

चीन ने ताइवान के चारों तरफ तैनान किए लड़ाकू विमान, यूएस से युद्ध की आशंका बढ़ी





नई दिल्‍ली: अपने पड़ोसी देशों के खिलाफ चीन के मंसूबे इस समय सही नहीं है। कोरोना के बाद उसकी उकसाने वाली हरकतों को लेकर अमेरिका-चीन के साथ कई मोर्चों पर तनाव बढ़ रहा है। दोनों देशों के बीच मुख्य मुद्दा ताइवान है, जो लंबे समय से चीन के साथ सैन्य संघर्ष झेल रहा है।
चीनी लड़ाकू जेट विमानों ने पिछले दो हफ्तों में ताइवान के हवाई रक्षा क्षेत्र में सात बार प्रवेश किया है। इस वर्ष चीनी लड़ाकू विमानों का ताइवान की सीमा में आना पिछले वर्षों की तुलना में काफी अधिक है। पिछले कुछ हफ्तों में चीन की तरफ से हुई हलचल असामान्य है और अगर यह जारी रही तो दोनों देश युद्ध की तरफ तेजे से बढ़ सकते हैं।
ताइवान और चीन दोनों की सैन्य युद्धाभ्यास में लगे हुए हैं, जोकि दोनों देशों के बीच युद्ध की वर्तमान क्षमता को दर्शाता है। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने हाल ही में ताइवान को बलपूर्वक लेने की धमकी दी है।
चीन ताइवान को अपने क्षेत्र का एक अयोग्य हिस्सा मानता है जिसे अंततः बीजिंग के नियंत्रण में लाया जाना चाहिए, यदि आवश्यक हो तो बलपूर्वक। लेकिन राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन ने 2016 के चुनाव के बाद दोनों देशों के बीच सभी प्रत्यक्ष संबंधों को काट दिया, जो व्यापक अंतरराष्ट्रीय मान्यता की आवश्यकता में द्वीप को एक वास्तविक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में देखता है।
ताइवान अमेरिका के साथ आर्थिक संबंध बढ़ा रहा है। ट्रम्प प्रशासन के अधिकारियों ने एक मॉडल लोकतंत्र के रूप में इसका तेजी से स्वागत किया है। ताइवान के रक्षा मंत्रालय के अनुसार, एक अमेरिकी सैन्य विमान के 9 जून को पूरे द्वीप में उड़ने के कुछ ही घंटों बाद चीनी घुसपैठ हुई थी। इस साल अब तक 17 बार चीनी नौसेना या वायु सेना ताइवान के करीब अभ्यास कर चुकी है। जबकि 2019 में उसने 29 बार ऐसा किया था।
चीन के हित में नहीं युद्ध करना
इस समय चीन के लिए आक्रमण में जोखिम बहुत है। चीनी सैन्य रणनीतिकार किओ लिआंग ने पिछले महीने साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट को बताया था कि ताइवान का एक आक्रमण चीन के लिए विनाशकारी हो सकता है। अगर अमेरिका युद्ध में शामिल नहीं होता है, तो यह अन्य देशों के साथ प्रतिबंध लगाने की संभावना है। व्यापक आर्थिक कठिनाई के कारण और कम्युनिस्ट पार्टी की दीर्घकालिक विकास योजनाओं को कमजोर किया जा सकता है।
उन्होंने अखबार से कहा, 'ताइवान मुद्दा वास्तव में चीन और अमेरिका के बीच एक महत्वपूर्ण समस्या है, भले ही हमने जोर देकर कहा है कि यह चीन का घरेलू मुद्दा है। जब तक बीजिंग और वाशिंगटन के बीच प्रतिद्वंद्विता का समाधान नहीं हो जाता, ताइवान का मुद्दा पूरी तरह से हल नहीं हो सकता है।'
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ताइवान के साथ संबंधों को मजबूत किया है, पिछले साल तीन दशकों में ताइवान को पहली अमेरिकी फाइटर जेट की बिक्री की मंजूरी दी।

No comments:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages