रक्षा मंत्री के शोक संदेश पर राहुल गांधी बोले ,पब्लिक को शोक सन्देश देने में दिन क्यों लगे - www.fxnmedia.com

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, June 17, 2020

रक्षा मंत्री के शोक संदेश पर राहुल गांधी बोले ,पब्लिक को शोक सन्देश देने में दिन क्यों लगे


  • सैनिकों के शहीद होने पर रैलियों को संबोधित क्यों किया गयाः राहुल
  • 15 जून को गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में 20 सैनिक हुए शहीद
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने रक्षा मंत्री के शोक संदेश पर सवाल खड़े किए हैं. बुधवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गलवान घाटी में शहीद हुए जवानों के लिए संवदेना व्यक्त करते हुए ट्वीट किया था. राहुल ने ट्वीट में चीन का जिक्र ना किए जाने पर सवाल उठाया है.
रक्षा मंत्री के ट्वीट पर राहुल गांधी ने पूछा कि सहानुभूति प्रकट करने में दो दिन क्यों लग गए? ट्वीट में चीन का नाम न लेकर भारतीय सेना का अपमान क्यों? साथ ही सवाल उठाया कि सैनिकों के शहीद होने पर रैलियों को संबोधित क्यों किया गया?
बता दें कि राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर लिखा था, 'गलवान घाटी में सैनिकों को खोना दर्दनाक है. हमारे सैनिकों ने अपना फर्ज निभाते हुए देश के लिए जान दे दी. देश उनके बलिदान को कभी नहीं भूलेगा.'
The loss of soldiers in Galwan is deeply disturbing and painful. Our soldiers displayed exemplary courage and valour in the line of duty and sacrificed their lives in the highest traditions of the Indian Army.
15.2K people are talking about this
रक्षा मंत्री ने लिखा कि शहीद जवानों के परिवारों के प्रति वह सांत्वना प्रकट करते हैं, देश उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है. हमें अपने देश के जवानों पर गर्व है.
इससे पहले राहुल गांधी ने अपने वीडियो संदेश में कहा था कि चीन ने हमारे देश की जमीन छीन ली है, हमारी जमीन हड़प ली है. प्रधानमंत्री जी आप चुप क्यों हैं? आप कहां छुप गए हैं, आप बाहर आइए! पूरा देश, हम सभी आपके साथ खड़े हैं. राहुल गांधी ने कहा कि आप बाहर आइए और देश को सच्चाई बताइए.
हालिया विवाद का देश को ब्योरा दें पीएमः सोनिया गांधी
वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अपने वीडियो संदेश में कहा कि पीएम मोदी को सामने आकर लद्दाख की स्थिति के बारे में देश को बताना चाहिए. साथ ही सोनिया गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी से घायल जवानों की सटीक संख्या बताने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि पीएम चीन के साथ हालिया विवाद का ब्योरा देश को दें.
भारतीय सेना ने दिया था मुंहतोड़ जवाब

गौरतलब है कि 15 जून की रात लद्दाख की गलवान घाटी में LAC पर चीन और भारत की सेना में हिंसक झड़प हुई थी. इस हिंसा में भारत के 20 जवान शहीद हो गए. जानकारी ये भी है कि चीन के करीब 40 जवान हताहत हुए हैं, लेकिन चीन ने अब आधिकारिक तौर पर कोई संख्या नहीं बताई है. साथ ही चीन ने भारत पर ही कार्रवाई का आरोप लगाया है. जबकि भारत ने साफ तौर पर कहा है कि ये पूरी घटना चीन की हिमाकत का नतीजा है.

No comments:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages