जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन द्वारा बताया गया कि प्रवासी मजदूरों को मनरेगा के तहत नियमित रूप से काम उपलब्ध कराया जाये भेदभाव करने के दोषी पाये गये प्रधानों के खिलाफ विधिक कार्यवाही - www.fxnmedia.com

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

सोमवार, 11 मई 2020

जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन द्वारा बताया गया कि प्रवासी मजदूरों को मनरेगा के तहत नियमित रूप से काम उपलब्ध कराया जाये भेदभाव करने के दोषी पाये गये प्रधानों के खिलाफ विधिक कार्यवाही



बस्ती।कोरोना वायरस के कारण लाकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों को मनरेगा के तहत नियमित रूप से काम उपलब्ध कराया जाना है। इसमें भेदभाव करने के दोषी पाये गये प्रधानों के खिलाफ विधिक कार्यवाही की जायेंगी। उक्त चेतावनी जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने दी है। वे विकास भवन सभागार में समीक्षा बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। समीक्षा में उन्होने पाया कि 1235 में से 850 ग्राम पंचायतों में काम शुरू हो पाया है।
उन्होने कहा कि अभी तक कोरोना से रोकथाम एवं बचाव के उपाय किए जा रहे थे। अब गाॅव में आये हुए प्रवासी मजदूर को कार्य भी उपलब्ध कराना है ताकि उनकी आर्थिक स्थिति सुधर सके। उन्होने कहा कि तालाब का सौन्दर्यीकरण, चकमार्गो का मरम्मत, वृक्षारोपण के अलावा सामुदायिक शौचालय, आगनवाडी भवन, खेल मैदान एवं अन्य मनरेगा से जुड़े कार्यो को तत्काल शुरू कराया जाय। इस दौरान प्रत्येक व्यक्ति मास्क लगायेगा, 

शारीरिक दूरी अपनायेगा तथा व्यक्तिगत स्वच्छता का ध्यान रखेंगा।उन्होने निर्देश दिया कि जिन कार्यो में भूमि विवाद या आपसी विवाद है उसे तत्काल एसडीएम के संज्ञान में लाकर समाधान कराये। जिन परिवारों के पास जाबकार्ड नही है उन्हें जार्बकाड उपलब्ध कराये। जो व्यक्ति काम मांगता है उसे प्राथमिकता के आधार पर जाति, धर्म, सम्प्रदाय, लिंग, भेद से उपर उठकर कार्य अवश्य उपलब्ध कराया जाय। उपायुक्त मनरेगा तथा डीपीआरओ इसकी डेली मानीटरिंग कर उन्हें रिपोर्ट देंगे।


उन्होने कहा कि प्रत्येक मोहल्ले एंव ग्राम में निगरानी समितियां गठित की गयी है इन समितियों के माध्यम से कोरोना वायरस के कारण होम कोरेन्टाइन किए गये लोगों पर निगरानी रखी जायेंगी। होमकोरेन्टाइन के नियमों का पालन न करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ तत्काल एफआईआर करायी जायेंगी। बाहर से आये हुए सभी व्यक्तियों को 21 दिन होमकोरेन्टाइन में रखा जायेंगा।
जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि होमकोरेन्टाइन किए गये व्यक्ति के घर पर आशा फ्लैग लगायेगी तथा हर तीसरे दिन कोरेन्टाइन किए गये व्यक्ति का निरीक्षण करेंगी।कोरोना का लक्षण पाये जाने पर तत्काल इसकी सूचना प्रभारी चिकित्साधिकारी और जिला कंट्रोल रूम 05542,287774 पर देंगी। निगरानी समिति प्रत्येक कोरेन्टाइन किए गये व्यक्ति आशा, एएनएम एवं अन्य को जोड़ते हुए एक व्हाट्सएप ग्रुप भी बनायेंगी, जिसमें सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जा सके।


उन्होने बताया कि कोरेन्टाइन किए गये प्रवासी मजदूर के घर से मात्र एक व्यक्ति को आवश्यक वस्तुओ की खरीद के लिए घर से बाहर जाने की अनुमति होगी। बाहर निकलने के दौरान वह मास्क, गमछा या दुपट्टा का प्रयोग करेंगा। 21 दिन की कोरेन्टाइन अवधि पूरी होने पर आशा इसकी सूचना ब्लाक पर देंगी तथा घर पर लगे फ्लैग को हटायेगी।
निगरानी समिति प्रत्येक दिन देंगी सूचना


जिलाधिकारी ने निेर्देश दिया है कि सभी निगरानी समितिया प्रत्येक दिन एसडीएम एवं वीडीओ को गाॅव में आये प्रवासी व्यक्तियों की सूचना देंगे। इसके अलावा प्रवासियों की होमकोरेन्टाइन अवधि, कोरोना के लक्षण तथा कोरेन्टाइन नियमों का उल्लघन करने की सूचना भी देंगे।

उन्होने सीएमओं को निर्देशित किया है कि शासन के नये निर्देशों के क्रम में कोरोना वायरस का प्रोटोकाल अपनाये जाने की जानकारी सभी चिकित्साधीक्षक, एएनएम, आशा तथा मेडिकल टीम के सभी सदस्यों को दिलाकर इसका अनुपालन कराये।बैठक में सीडीओ सरनीत कौर ब्रोका,एडीएम रमेश चन्द्र, सीएमओ डाॅ0 जेपी त्रिपाठी, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा, सदर उप जिलाधिकारी श्रीप्रकाश शुक्ला, नीरज पटेल,

 आशाराम वर्मा, पीडी आरपी सिंह, डीडीओ अजीत श्रीवास्तव, उपायुक्त मनरेगा इन्द्रपाल सिंह, डाॅ0 फखरेयार हुसेन, डाॅ0 सीके वर्मा, संजेश श्रीवास्तव,रंमन मिश्रा, सावित्रि देवी,विनय सिंह, सभी खण्ड विकास अधिकारी, प्रभारी चिकित्साधिकारी उपस्थित रहे। 

=======अरविंद त्रिपाठी FSN News= 

कोई टिप्पणी नहीं:

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages